तुम्हारे नाम की इक ख़ूबसूरत शाम हो जाये – बशीर बद्र

0
50
TUMHARE NAM KI EK KHUBSURAT SHAM HO JAYE- BASHIR BADRA

तुम्हारे नाम की इक ख़ूबसूरत शाम हो जाये (कविता ) – बशीर बद्र 

TUMHARE NAME KI EK KHUBSURAT SHAM HO JAYE – BASHIR BADRA

 

कभी तो आसमाँ से चांद उतरे जाम हो जाये
तुम्हारे नाम की इक ख़ूबसूरत शाम हो जाये

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाये
चराग़ों की तरह आँखें जलें जब शाम हो जाये

अजब हालात थे यूँ दिल का सौदा हो गया आख़िर
मोहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाये

समंदर के सफ़र में इस तरह आवाज़ दो हमको
हवाएँ तेज़ हों और कश्तियों में शाम हो जाये

मैं ख़ुद भी एहतियातन उस गली से कम गुज़रता हूँ
कोई मासूम क्यों मेरे लिये बदनाम हो जाये

मुझे मालूम है उस का ठिकाना फिर कहाँ होगा
परिंदा आसमाँ छूने में जब नाकाम हो जाये

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here