सरकारी नौकरी छोड़कर बनी मायानगरी की सफल अभिनेत्री -छवि पाण्डेय

0
36
Chhavi pandey facebook, viraf patel, age wiki, biography

छवि पाण्डेय (अभिनेत्री ) जीवन परिचय || CHHAVI PANDEY ACTRESS HINDI BIOGRAPHY

लालू यादव ने दिया था सरकारी नौकरी 
छवि पाण्डेय की  प्रारंभिक शिक्षा पटना के सेंट जोसेफ कान्वेंट से हुई। छवि ने मगध महिला कॉलेज से ग्रेजुएशन की। छवि जब पटना में थी तो अपने गायन को लेकर हमेशा सुर्खियों में रही। छवि के  गायन से एक बार राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव इतने प्रभावित हुए थे कि उन्होंने छवि को  सरकारी नौकरी दिला दी।
किस्मत ने बनाया सिंगर से अभिनेत्री 
छवि के  पिताजी छवि को  सिंगर के तौर पर स्थापित करना चाहते थे पर किस्मत ने छवि को  अभिनेत्री बना दिया। इसके लिए उन्होंने  सरकारी नौकरी भी छोड़ दी। छवि  मुंबई में एक सिंगिंग  शो में ऑडिशन के लिए गयी थी पर अभिनय के लिए मौका मिला तो उन्होंने  इसे तुरंत स्वीकार कर लिया।
परिवार ने किया मुझे हमेशा सपोर्ट 
छवि बताती है -आज मैं जिस मुकाम पर हूं उसमें मेरे पिता उमेश कुमार पांडेय, मां गीता पांडेय और चाचा जयंत कुमार पांडेय का बहुत बड़ा योगदान है। मुझे लगता है कि अगर परिवार पूरी तरह सपोर्ट नहीं करे तो बिहार से मुंबई जैसे शहर में आकर संघर्ष करना बहुत मुश्किल है। शुरू में जब भी मुङो ऑडिशन के लिए मुंबई, कोलकाता और दिल्ली समेत किसी भी शहर में जाना हुआ चाचाजी हमेशा मेरे साथ रहे। इसलिए मैं बिहार के अभिभावकों से कहना चाहती हूं कि अगर आपकी बेटियां किसी भी क्षेत्र में कॅरियर बनाना चाहती हैं तो उनका खुले दिल से सहयोग करें। इससे बेटियों का उत्साह दोगुना हो जाता है।
छवि बताती  है –मैं जब छोटी थी तो किसी भी प्रतियोगिता में भाग लेने से डरती थी। जल्द ही एक कार्यक्रम में जज की भूमिका में भी नजर आऊंगी। जब जब वरुण धवन और दीपिका पादुकोण के साथ किसी मंच पर परफार्म करती हूं तो बहुत गर्व महसूस होता है।

एक बूंद इश्क सीरियल से मिली पहचान 

छवि को टीवी की दुनिया में  एक बूंद इश्क सीरियल से पहचान मिली। इसके बाद छवि ये है आशिकी, बंधन, सिलसिला प्यार का और और अब काल भैरव रहस्य में बतौर लीड अभिनेत्री के रूप में  काम कर रही है । ’सिलसिला प्यार का’ में छवि को अभिनेत्री शिल्पा शिरोडकर के साथ काम करने का मौका मिला। उन्होंने  भोजपुरी फिल्म बिदेसिया में बतौर लीड अभिनेत्री काम किया था पर अब वह  भोजपुरी फिल्मों में काम नहीं करना चाहती हूं। काल भैरव में काम करके वह बहुत ही रोमांचित हैं । इसमें वह  लंदन में पढ़ी-लिखी नम्रता का किरदार निभा रही हूं।

मुंबई में बहुत याद आता है बिहार का लिट्टी-चोखा

छवि बताती है -मैं बिहार के लिट्टी-चोखा को बहुत मिस करती हूं। अभी मैं सालभर से पटना नहीं आ पाई हूं।मैं पटना को बहुत मिस करती हूं।वहां के मौर्योलोक का लिट्टी-चोखा भी बहुत याद आता है। काल भैरव में मेरे साथ काम करने वाले सभी साथी मुझसे पूछते हैं कि लिट्टी-चोखा के बारे में पूछते हैं।मैंने उनसे वादा किया है कि शूटिंग खत्म होने के बाद मैं उन्हें पटना लेकर चलूंगी और बिहार की प्रसिद्ध चीजें खिलाऊंगी और दिखाऊंगी।

मन और शरीर को मजबूत करके ही माया नगरी में आइये

छवि कहती है -जो अभिनय के क्षेत्र में आना चाहते हैं उन्हें मैं मुंबई की हकीकत से रूबरू कराना चाहती हूं।यहां कॅरियर के किसी भी अन्य क्षेत्र से ज्यादा संघर्ष है। यहां कई बार युवा अपना धैर्य खो देते हैं। महीनों काम नहीं मिलता है और आर्थिक परेशानियां भी बढ़ जाती हैं तो कदम डगमगाने लगते हैं। लेकिन यही परीक्षा की घड़ी होती है। यहीं पर धैर्य के साथ सही निर्णय लेने की जरूरत पड़ती है। इसमें आपका अपना परिवार बहुत काम आता है।एकमात्र परिवार के लोग ही होते हैं जो आपका सहारा बनते हैं। इसलिए कभी भी अपने परिवार को मत भूलिए। उनसे अपनी हर बात शेयर करिए। यह बात गांठ बांध लीजिए कि यहां कुछ भी आसानी से नहीं मिलता। कुछ ही लोग भाग्यशाली होते हैं, जिन्हें जल्दी सफलता मिल जाती है।इसलिए मैं अपने फैंस और बिहार के युवाओं से कहना चाहती हूं कि मन और शरीर को मजबूत करके ही माया नगरी में आइये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here