Disqus Shortname

Breaking News

आठ साल तक एक रोटी खाकर गुजारी जिंदगी ,आज है बॉलीवुड के फेमस ACTOR

अगर सपने सच्चे हो और आपमें उन्हें पूरा करना का जज़्बा हो तो फिर उन्हें पूरा होने से कुछ भी रोक नहीं सकता। यह बात को साबित कर दिखाया है बॉलीवुड एक्टर केके गोस्वामी ने। केके महज का कद महज 3 फीट है, लेकिन अपने जीवन में संघर्ष करने के बाद उन्होंने बॉलीवुड में जिन ऊंचाईयों को छुआ है, वह बेहद ही हैरान कर देना वाला और तारीफ करना वाला है। केके का अपने बॉलीवुड तक के सफर के दौरान किए गए संघर्षों के बारे में कहना है कि जब वह मुंबई एक एक्टर बनने का सपना लेकर पहुंचे तभी से उनका स्ट्रगल शुरू हो गया। 7-8 साल तो उन्होंने सिर्फ एक वक्त रोटी खाकर ही निकाले।
भोजपुरी एक्टर केके गोस्वामी का आज जन्मदिन है। गोस्वामी को इंडस्ट्री के कई एक्टर और एक्ट्रेस समेत कई लोगों ने बधाई दी। रात को मुंबई में एक पार्टी का भी आयोजन किया गया है। जिसमें कई लोग पहुंचेंगे। गोस्वामी के लिए बिहार के एक छोटे से गांव से लेकर मुंबई तक का सफर आसान नहीं था। इस दौरान कई परेशानियों का सामना करना पड़ा। गोस्वामी की हाइट तीन फीट के करीब है और उनकी वाइफ उनसे दो फीट लंबी हैं। शादी के पहले वो अपने कम कद के कारण डर गए थे।

के. के. गोस्वामी

सर्कस वाला खरीदने आया था घर...

 गोस्वामी ने बताया कि मेरा और मेरे छोटे भाई का कद छोटा है। जब इस बात का पता एक सर्कस वाले को चला तो वह मेरे पिता से मिला।
- उसने पिता से कहा कि बड़े बेटे को मुझे दे दिजिए। आपको 50 हजार रुपए देंगे। इसको सर्कस का काम सिखाएंगे। आप इससे मिल भी सकते हैं।
- सर्कस वाले की बात सुनकर मैं डर गया था। पिता जी ने मुझे बेचने से इनकार कर दिया तब राहत मिली। मैं उस समय 10-12 साल का था।

ससुर नहीं चाहते थे कि छोटे कद के लड़के से हो बेटी की शादी

- गोस्वामी जब जवान हुए तो शादी तय हुआ, लेकिन ऐन वक्त पर ससुराल वाले बेटी देने से इनकार करने लगे।
- लड़की ने जब सिर्फ और सिर्फ इनसे ही शादी करने की जिद की तब वे दूल्हा बनकर ससुराल गए, लेकिन दिल में डर था।
- छोटा कद की जानकारी के बाद भी होने वाली पत्नी उनसे शादी करने को तैयार थी। घरवाले उसे समझा रहे थे कि अभी भी मौका है। शादी से इनकार कर दो और अपने लिए कोई अच्छा लड़का चुनो। इस पर लड़की का कहना था कि शादी तय होने के दिन से ही मैं उन्हें अपना पति मानने लगी हूं। वे नाटे हुए तो क्या हुआ मैं उन्हीं से शादी करूंगी।
- लड़की के इस जवाब के बाद भी गोस्वामी को बरात ले जाने से डर लग रहा था। उन्हें डर था कि बैंड बाजे के साथ पूरे गांव के लोगों को बरात में ले जाउं और अगर लड़की ने मुझे देख कर शादी से मना कर दिया तो? ऐसा होने पर पूरे समाज में बदनामी होती। इस डर से गोस्वामी ने मंदिर में शादी की।

गांव के लोग मां को मारते थे ताना

- अपनी नटखट अदाओं से लोगों को हंसाने वाले कॉमेडी स्टार केके गोस्वामी का जीवन कई रोचक कहानियों से भरा है।
- गोस्वामी ने कहा कि छोटे कद के चलते उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।
- मेरा घर बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के पानापुर में है।
- गांव में जब भी पड़ोसी झगड़ा करते तो मां को मेरा कद को लेकर जरूर ताना मारते थे।

बीयर बार में नौकरी करने गए थे केके पर...

एक बार उन्हें उनके ही कद-काठी का आदमी मिला जिसने बीयर बार में नौकरी करने की सलाह दी। उसने उन्हें बताया कि वहां नौकरी करने पर उन्हें 500-700 रुपए मिलेंगे और साथ ही अच्छा खाना। उस व्यक्ति की बात मान कर बीयर बार पहुंचे। जब वह अंदर जाने लगे तो बार के वॉचमैन ने उन्हें डंडा मारकर बाहर से ही भगा दिया। यह पल केके की जिंदगी का वो पल था जब उन्होंने ठान लिया कि अब वह हर हाल में एक्टर बनकर रहेंगे।

मेरे छोटे कद के कारण बेटे को होना पड़ता था शर्मिंदा

केके का कहना है कि कम कद होना आज भी एक समस्या ही है। क्योंकि आज मैं एक एक्टर हूं इसलिए लोग मुझे स्वीकारते हैं। जब मैं एक परिचित चेहरा नहीं था तब तक मैं कभी अपने बेटे के साथ उसके स्कूल नहीं जा सका क्योंकि जब भी मैं उनके स्कूल जाता था तो बच्चे मेरा मज़ाक उड़ाते थे जिसके कारण मेरे बेटे को शर्मिंदा होना पड़ता था। मेरे बेटे को शर्मिंदा ना होना पड़े इसलिए मैं अकसर अपने बेटे के किसी भी स्कूल फंक्शन में अपनी पत्नी को भेजा करता था। लेकिन इन सब चीजों ने मेरे ऊपर बहुत असर डाला और मैनें यह ठान लिया कि मैं यह साबित करके रहूंगा कि आदमी कद से नहीं, हुनर से बड़ा होता है।

एक दिन खाना और 6 दिन पानी पीकर बिताते थे हफ्ते

केके की संघर्ष की कहानी सुनकर तो हर कोई हैरान रह जाए। मुंबई में अपने संघर्ष के दिनों में केके हफ्ते में सिर्फ एक दिन पूरा खाना खाते थे और बाकी दिन 6 दिन वह पानी पीकर बिताया करते थे। उनकी हालत इतनी खराब हो गई थी कि उन्हें पानी देखकर भी उल्टी आती थी। वह खाने को इतना तरस गए थे कि सिर्फ एक वक्त अच्छे खाने के लिए बिना पैसों के भी काम करने को तैयार रहते थे। कई बार हौसला टूटा भी, कई बार मन में आया कि वापस बिहार लौट जाएं लेकिन बीयर बार वाली घटना ने उनके दिल और दिमाग पर इतना गहरा असर डाल दिया था कि अब एक्टर बनना ही उनके जीवन का एकमात्र लक्ष्य बन गया था।

शो की टीआरपी बढ़ाने के लिए करते थे शामिल

टीवी शो में अपने किरदार के बारे में बताते हुए केके ने बताया कि पहले ज्यादातर स्क्रिप्ट राइटर उनके जैसे कम कद वालों को सिर्फ शो की टीआरपी बढ़ाने के लिए शामिल किया जाता है। लेकिन अब ऐसा नहीं है, अब हालात बदल चुके हैं। हालांकि अभी हालात शायद इतने नहीं बदले हैं कि हमें लीड रोल के रूप में जगह दी जाए।

No comments